Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

कुछ नया लिखना है आज

हर क्षण, हर पल,हर दिन
कुछ नयापन लेकर आता है!
ठीक उसी कागज की तरह,
जो एक तरफ से कोरा है।
हम स्वतंत्र हैं उतारने को
उस कोरे कागज पर,
अपने भावों की दुनिया,
अपने उन्मुक्त विचार!

पर मैं देखता हूं..
उभरे हुए कुछ निशान!
जो उसके दूसरी तरफ
पहले से लिखे शब्दों के हैं।
ये उभरे हुए निशान
उस कोरे कागज को
फिर से पुराना बना देते हैं
उसका नयापन छुपा देते हैं।

उस कोरे कागज पर,
पुराने लिखे के डर से
नया लिखने से पहले
हम रुक जाते हैं।
जो कोरे शब्द लिखने थे,
भावों की दुनिया और,
उन्मुक्त विचार लिखने थे,
उन्हें लिखना छोड़ देते हैं।

बस यही वो क्षण होते हैं,
जब हमारे रुक जाने से
हम पीछे रह जाते हैं,
बाकी सब आगे निकल जाते हैं!
और नए शब्दों की दुनिया को,
पुराने निशानों के डर से
उस कागज पर उतार नहीं पाते हैं!
हां,कुछ नया नहीं लिख पाते हैं।

ऐसे में हम, ना जगे तो
औरों से आगे ना बढ़े तो,
माफ़ कर ना पाएंगे
इतिहास लिख ना पाएंगे।
नया अगर नहीं लिख सके तो,
अतीत के फैले जाल से,
दो कदम आगे निकलकर
वर्तमान कैसे लायेंगे?

इसीलिए मैं कहता हूं कि
नए शब्दों की स्याही से,
भावों की अमिट गहराई से,
हर हाल में लिखना है आज!
जो उभर रहे हैं चिह्न पुराने
उन पर पूरी ताकत से
अपना अस्तित्व बनाने को
कुछ नया लिखना है आज!
कुछ नया लिखना है आज!!

@करन केसरा

Language: Hindi
1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
सावन सूखा
सावन सूखा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
*वैराग्य के आठ दोहे*
*वैराग्य के आठ दोहे*
Ravi Prakash
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
Rajesh Kumar Arjun
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री राम वंदना
श्री राम वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
Shweta Soni
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
कविता
कविता
Dr.Priya Soni Khare
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
न मुझको दग़ा देना
न मुझको दग़ा देना
Monika Arora
मां
मां
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#यह_है_बदलाव
#यह_है_बदलाव
*प्रणय प्रभात*
Beyond The Flaws
Beyond The Flaws
Vedha Singh
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Loading...