Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे

कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
बाक़ी न कुछ भी, दिल में रखेंगे
क्या ख़ूब क़िस्मत, जो तुम मिरे हो
कुछ और अब क्या, हसरत करेंगे
हो रूह मेरी, या जिस्म मेरा
धड़कन जुदा हम, कैसे करेंगे
– महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 452 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
हर इक रंग बस प्यास बनकर आती है,
हर इक रंग बस प्यास बनकर आती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
नशा नाश की गैल हैं ।।
नशा नाश की गैल हैं ।।
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगर आप रिश्ते
अगर आप रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
राम ने कहा
राम ने कहा
Shashi Mahajan
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
नेता
नेता
Punam Pande
■ सवा सत्यानाश...
■ सवा सत्यानाश...
*प्रणय प्रभात*
गुलाब
गुलाब
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Loading...