Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,

कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
जैसे आना, मुस्कुराना, झूठ मूठ रूठ जाना।
कुछ आदतें बड़ी खराब हैं तुम्हारी,
जैसे जाना, डबडबाना, सचमुच ही रूठ जाना

Language: Hindi
6 Likes · 1 Comment · 489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
तय
तय
Ajay Mishra
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
कब जुड़ता है टूट कर,
कब जुड़ता है टूट कर,
sushil sarna
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
यूं ही नहीं मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ कटाक्ष...
■ कटाक्ष...
*प्रणय प्रभात*
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
" प्रश्न "
Dr. Kishan tandon kranti
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
3484.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3484.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...