Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

कुकृत्य

“कुकृत्य”
“”””””””””””””

चौराहों से
उठाते हैं……….
कभी रस्ते चलते
उठाते है !
हद कर जाते
वहशी-दरिंदे
जब बच्ची को घर से
उठाते हैं !!
काम-वासना
अपनी जगाकर
मंदिर-मस्जिद से
उठाते हैं !
कभी- कभी
निर्मम हत्यारे………
आँचल से ही
उठाते हैं !!
कभी ले जाते
दूधमुँही बच्ची !
कभी किशोरी
उठाते हैं !!
हैं ये भेड़िये
मांसाहारी !
मांस नोचकर खाते हैं !
कभी मांँ सम्मुख
नारी तो……..
कभी दादी को
उठाते हैं !!
ऐसे कुकृत्य करके भी
खुद को निर्दोष
बनाते हैं !
माफी नहीं है
“दीप” उन्हें !
जो नारी को
उठाते हैं !!!

—————————
डॉ०प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
2686.*पूर्णिका*
2686.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
लेखक
लेखक
Shweta Soni
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
Ravi Prakash
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
कर्म
कर्म
Er. Sanjay Shrivastava
कौन पंखे से बाँध देता है
कौन पंखे से बाँध देता है
Aadarsh Dubey
मेरा सपना
मेरा सपना
Adha Deshwal
सत्य असत्य से हारा नहीं है
सत्य असत्य से हारा नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
"याद तुम्हारी आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
Loading...