Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2016 · 1 min read

कुंडलिया

“कुण्डलिया छंद”

गुरुवर साधें साधना, शिष्य सृजन रखवार
बिना ज्ञान गुरुता नहीं, बिना नाव पतवार
बिना नाव पतवार, तरे नहि डूबे दरिया
बिन शिक्षा अँधियार, जीवनी यम की घरिया
कह गौतम चितलाय, इकसूत्री शिक्षा रघुवर
गाँव शहर तक जाय, ज्ञान भल फैले गुरुवर॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

187 Views
You may also like:
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
आँखों में पूरा समंदर छिपाये बैठे है,
डी. के. निवातिया
उठ मुसाफिर
Seema 'Tu hai na'
यशोदा का नंदलाल बांसूरी वाला
VINOD KUMAR CHAUHAN
कितनी इस दर्द ने
Dr fauzia Naseem shad
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
तेरी दहलीज़ तक
Kaur Surinder
इरादा
Shivam Sharma
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
मेरी दिव्य दीदी - एक श्रृद्धांजलि
Shyam Sundar Subramanian
चांद
Annu Gurjar
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
✍️सत्ता का नशा✍️
'अशांत' शेखर
निरक्षता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अपनो को।
Pradyumna
हम भी क्या दीवाने हुआ करते थे
shabina. Naaz
पिता
Meenakshi Nagar
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
नन्ही गिलहरी
Buddha Prakash
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आज रात है जश्न की (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
परमात्मनः प्राप्तया: स्थानं हृदयम्
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हनुमंता
Dhirendra Panchal
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
Loading...