Sep 9, 2016 · 1 min read

कुंडलिया

“कुण्डलिया छंद”

गुरुवर साधें साधना, शिष्य सृजन रखवार
बिना ज्ञान गुरुता नहीं, बिना नाव पतवार
बिना नाव पतवार, तरे नहि डूबे दरिया
बिन शिक्षा अँधियार, जीवनी यम की घरिया
कह गौतम चितलाय, इकसूत्री शिक्षा रघुवर
गाँव शहर तक जाय, ज्ञान भल फैले गुरुवर॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

134 Views
You may also like:
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
"साहिल"
Dr. Alpa H.
मैं
Saraswati Bajpai
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
हिरण
Buddha Prakash
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
Little sister
Buddha Prakash
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काँटे .. ज़ख्म बेहिसाब दे गये
Princu Thakur "usha"
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...