Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

की तरह

चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
हवा ख़िज़ाँ की बसें फिर शब-ए-बहार की तरह।
मैं हूँ भी और नहीं भी गजब अहसास है ये
रुकी हुई हूँ सफ़र में तिरे इंतिजार की तरह।
ये मोहब्बत का जुनूं जिसके भी सिर चढ़कर कर बोले
दिन -ब-दिन बढ़ता ही जाएगा मियादी बुखार की तरह।
निगाह आप से कुछ इस तरह थी मिली ‘नीलम’
कृष्ण -राधा की मुहब्बत के इख़्तियार की तरह ।।
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
😢नारकीय जीवन😢
😢नारकीय जीवन😢
*Author प्रणय प्रभात*
2886.*पूर्णिका*
2886.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
My City
My City
Aman Kumar Holy
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*दया*
*दया*
Dushyant Kumar
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
Loading...