Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

कीलों की क्या औकात ?

कीलों की क्या औकात ?
और बौछारों की
क्या बिसात ?
धरती फाड़ के पैदा हो जाएं
जो नन्हें बीज में भरते
इतनी जान हैं
वे मेरे देश के किसान हैं
-आनंद-

142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
3141.*पूर्णिका*
3141.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बचपन
बचपन
Vivek saswat Shukla
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
मौत क़ुदरत ही तो नहीं देती
Dr fauzia Naseem shad
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
नाकाम किस्मत( कविता)
नाकाम किस्मत( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
पत्रकार की कलम देख डरे
पत्रकार की कलम देख डरे
Neeraj Mishra " नीर "
गालगागा गालगागा गालगागा
गालगागा गालगागा गालगागा
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
Bidyadhar Mantry
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
फोन
फोन
Kanchan Khanna
घर हो तो ऐसा
घर हो तो ऐसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...