Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

किस बात तुम्हें अभिमान है प्राणी!

किस बात का तुम्हें इतना
गुमान है ऐ प्राणी।
जब तेरे हाथ में नहीं है
तेरे जीवन का कमान प्राणी।
मत भूलो तुम यहाँ पर हो
कुछ दिनों का मेहमान प्राणी।
जिस धन-दौलत के लिए तुम
भागते रहते हो सुबह-शाम,
मत भूलो यहीं छोड़कर जाना है
तुम्हें सारा सामान प्राणी।
फिर किस बात का है तुम्हें
इतना अभिमान प्राणी।
क्यों दिन-रात लूट-खसोट कर
तुम सबको करते रहते हो परेशान प्राणी,
क्यों लड़ाई -झगड़ों में तुम अपना
यह अनमोल समय गवाते हो प्राणी।
क्यो जात-पात,मजहब -धर्म के नाम,
एक-दूसरे को करते हो अपमान प्राणी।
जब जाओगे यहाँ से, खाली तुम्हें जाना है।
इस मिट्टी के तन को भी यहीं छोड़कर जाना है ।
जिस पर तुमने लगाया है अपना,
यह जात-पात,मजहब-धर्म का मुहर प्राणी।
ऊपर वाला तो बस तेरे आत्मा को ले जाएगा,
उसकी शुद्धता को जाँचेगा और अपने साथ ले जाएगा।
छलकपट करके तुम इसका बोझ न बढा प्राणी,
नही तो तेरा आत्मा भी यही भटकता रह जाएगा,
फिर कहाँ उसे मुक्ति मिल पाएगा प्राणी।

Language: Hindi
Tag: गीत
5 Likes · 7 Comments · 440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
Anis Shah
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
संसद उद्घाटन
संसद उद्घाटन
Sanjay ' शून्य'
'सरदार' पटेल
'सरदार' पटेल
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ
माँ
Arvina
पंखा
पंखा
देवराज यादव
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
gurudeenverma198
गरीबी तमाशा
गरीबी तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
कुछ करो ऐसा के अब प्यार सम्भाला जाये
shabina. Naaz
💐अज्ञात के प्रति-32💐
💐अज्ञात के प्रति-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
शहर माई - बाप के
शहर माई - बाप के
Er.Navaneet R Shandily
कुशादा
कुशादा
Mamta Rani
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कवियों से
कवियों से
Shekhar Chandra Mitra
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कितनी भी हो खत्म हो
कितनी भी हो खत्म हो
Taj Mohammad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
(Y) Special Story :-
(Y) Special Story :-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...