Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

किस क़दर

किस क़दर
बावस्ता हूँ मैं तुम से
मेरी तन्हाई भी चैन से
जीने नहीं देती मुझ को

हिमांशु Kulshreshtha

234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*अनमोल हीरा*
*अनमोल हीरा*
Sonia Yadav
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
2774. *पूर्णिका*
2774. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी शक्ति वंदन
नारी शक्ति वंदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मानवता
मानवता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्म कभी माफ नहीं करता
कर्म कभी माफ नहीं करता
नूरफातिमा खातून नूरी
वो ओस की बूंदे और यादें
वो ओस की बूंदे और यादें
Neeraj Agarwal
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
gurudeenverma198
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
तुम्हारे
तुम्हारे
हिमांशु Kulshrestha
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
*सरिता निकलती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
💐अज्ञात के प्रति-53💐
💐अज्ञात के प्रति-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नारियों के लिए जगह
नारियों के लिए जगह
Dr. Kishan tandon kranti
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
Loading...