Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

गीत

लगाकर हौसलों के पर गगन छूकर दिखाना है
किसी से कम नही नारी ज़माने को बताना है

हमारा दिल बहुत कोमल भरा है प्यार ममता से
सदा आँका गया हमको न जाने क्यों विषमता से
न अब जज़्बात में बहकर हमें जीवन बिताना है
किसी से कम नही नारी ज़माने को बताना है

बिछे हों अनगिनत काँटें हमारी राह में देखो
कमी फिर भी नहीं होगी हमारी चाह में देखो
चुभे ये लाख पैरों में मगर मंजिल को पाना है
किसी से कम नहीं नारी ज़माने को बताना है

सुलगने सी लगीं दिल में नई चिंगारियाँ कितनी
हमारा साथ देने को चली हैं आँधियाँ कितनी
नहीं अब फूल सा रहना कि बन चट्टान जाना है
किसी से कम नहीं नारी ज़माने को बताना है

करेंगे सच सभी हम तो यहाँ देखे हुये सपने
नहीं मुँह मोड़ लेंगे पर कभी कर्तव्य से अपने
हमें संतान को देना गुणों का ही खज़ाना है
किसी से कम नहीं नारी ज़माने को बताना है

बिना नारी अधूरा नर बिना नर वो अधूरी है
चलाने सृष्टि को दोनों का सँग रहना ज़रूरी है
बताओ ‘अर्चना’ फिर क्यों पुरुष का ही ज़माना है
किसी से कम नहीं नारी ज़माने को बताना है

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Like · 3 Comments · 729 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
Surinder blackpen
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
Sonu sugandh
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कर्ज का बिल
कर्ज का बिल
Buddha Prakash
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
सफर
सफर
Arti Bhadauria
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
ज़िंदगी...
ज़िंदगी...
Srishty Bansal
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
शेखर सिंह
समय
समय
Neeraj Agarwal
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
मोबाइल महात्म्य (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फक़त हर पल दूसरों को ही,
फक़त हर पल दूसरों को ही,
Mr.Aksharjeet
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
भोजपुरी गायक
भोजपुरी गायक
Shekhar Chandra Mitra
■ आज_का_खुलासा
■ आज_का_खुलासा
*Author प्रणय प्रभात*
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
Loading...