Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

*किसी से कभी कोई वादा न कीजे*

किसी से कभी कोई वादा ना कीजे
वादा तो इक दिन निभाना पड़ेगा

कांटों से भरिये ना गैरों का दामन
खुद का भी पहलू बचाना पड़ेगा

सांसो ने सबको ही करजा दिया है
जीवन में इसको चुकाना पड़ेगा

भेजेगा जिसको वो जब भी बुलावा
छोड़ संसार ये उसको जाना पड़ेगा

किसी से कभी कोई वादा ना कीजे
वादा तो इक दिन निभाना पड़ेगा

धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
Tag: गीत
580 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर पानीपती"
View all
You may also like:
धोखे से मारा गद्दारों,
धोखे से मारा गद्दारों,
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ Rãthí
गम को भुलाया जाए
गम को भुलाया जाए
Dr. Sunita Singh
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
Buddha Prakash
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/104.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आकुलता"- गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुमार
■ दोहा-
■ दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
Surinder blackpen
प्रेम
प्रेम
Shekhar Chandra Mitra
आपको कहीं देखा है ?(छोटी कहानी)
आपको कहीं देखा है ?(छोटी कहानी)
Ravi Prakash
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सोदा जब गुरू करते है तब बडे विध्वंस होते है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
Loading...