Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया

किसी ज्योति ने मुझको , यूँ जीवन दिया ।
गुम अंधेरों में था , मुझको रोशन किया ।।
किसी ज्योति ने मुझको ———————–।

पैदा उस घर हुआ , थी गरीबी जहाँ ।
कांटे थे हर कदम , नहीं सुविधा जहाँ ।।
जीवन खुशियों से शिक्षा ने ,भर तब दिया ।
किसी ज्योति ने मुझको ———————-।

जग की रस्मों – रिवाजों से अंजान था ।
ना कोई शौक था , इतना नादान था ।।
कुछ सपनों ने मुझको , जगा तब दिया ।
किसी ज्योति ने मुझको ——————-।

महके गुलशन मेरा, ऐसा हमदम मिले ।
घर हो आबाद मेरा ,प्यार खुशियां मिले ।।
मुकम्मल मेरे सपनों को, उसने कर दिया ।
किसी ज्योति ने मुझको ———————–।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला-बारां(राजस्थान)
(नवम्बर 2021 में स्वरचित रचना)

Language: Hindi
Tag: गीत
183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2746. *पूर्णिका*
2746. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
चिड़िया चली गगन आंकने
चिड़िया चली गगन आंकने
AMRESH KUMAR VERMA
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
उनसे  बिछड़ कर
उनसे बिछड़ कर
श्याम सिंह बिष्ट
हमारा प्रेम
हमारा प्रेम
अंजनीत निज्जर
"BETTER COMPANY"
DrLakshman Jha Parimal
माँ तेरी याद
माँ तेरी याद
Dr fauzia Naseem shad
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
माँ
माँ
Arvina
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
राह नीर की छोड़
राह नीर की छोड़
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन का एक चरण
जीवन का एक चरण
पूर्वार्थ
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
Loading...