Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 1 min read

किसी के दिल की जबां हिचकियाँ बोल रही है

किसी के दिल की जबां हिचकियाँ बोल रही हैं
एक अहसास की हवा खिड़कियाँ खोल रही हैं
***********************************
न मुमकिन भी नही अब पहुँचना उस तलक
रूह उसी की तो अब नजदीकियाँ टटोल रही है
***********************************
कपिल कुमार
08/10/2016

Language: Hindi
403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
संगीत
संगीत
Vedha Singh
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*Author प्रणय प्रभात*
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Sakshi Tripathi
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
बरसों की ज़िंदगी पर
बरसों की ज़िंदगी पर
Dr fauzia Naseem shad
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
"हाय री कलयुग"
Dr Meenu Poonia
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
Aarti Ayachit
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
पढ़ता  भारतवर्ष  है, गीता,  वेद,  पुराण
पढ़ता भारतवर्ष है, गीता, वेद, पुराण
Anil Mishra Prahari
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
महत्व
महत्व
Dr. Kishan tandon kranti
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...