Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

किसी कबीले ना सरदार के भरोसे हैं,

किसी कबीले ना सरदार के भरोसे हैं।
सर अपने आज तलक दार के भरोसे हैं।।

हमे तो नाज़ हे अब भी उसी की रेहमत पर।
वो और होंगे जो अग्यार के भरोसे हैं।।

उठे तो चीर दें लहरों को अपने बाज़ू से,
अदु समझता है पतवार के भरोसे हैं।।

किसी बहाने उन्हें जश्न का मिले मौका।
मेरे रफ़ीक मेरी हार के भरोसे हैं।।

वो जंग,हमने,कभी सर कटा के जीती थी।
वो लोग आज भी तलवार के भरोसे हैं।।

बडी ही भोली तबीयत के लोग हैं,हम लोग
जो आज तक नई सरकार के भरोसे हैं।।

अमीरे शहर से अशफाक़ तुझको लडना है।
तमाम लोग तो अखबार के भरोसे हैं।।

(अशफ़ाक़ रशीद मंसूरी)

486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
पूर्वार्थ
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
जिंदगी देने वाली माँ
जिंदगी देने वाली माँ
shabina. Naaz
"दिल्ली"
Dr. Kishan tandon kranti
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
हृदय के राम
हृदय के राम
Er. Sanjay Shrivastava
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
3080.*पूर्णिका*
3080.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
चश्म–ए–बद दूर
चश्म–ए–बद दूर
Awadhesh Singh
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
छोटा परिवार( घनाक्षरी )
छोटा परिवार( घनाक्षरी )
Ravi Prakash
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
Loading...