Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

“किसान”

“किसान”
जो कृषि उपज किसान की बिकती माटी मोल,
वही लौटकर शहर से करे डबल मिल जोल,
केवल हमारे लिए महंगी है हर चीज,
उन्हें लग्जरी माल लगता सदा लजीज।
✍️श्लोक ” उमंग “✍️

2 Likes · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्रीत की डोर”
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
জীবন নামক প্রশ্নের বই পড়ে সকল পাতার উত্তর পেয়েছি, কেবল তোমা
Sakhawat Jisan
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
3325.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3325.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
तार दिल के टूटते हैं, क्या करूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
*Author प्रणय प्रभात*
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
Loading...