Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

किसने यहाँ

बेमतलब सी बातों में बस वक़्त गँवाया ।
किसने यहाँ सांसों का कोई क़र्ज़ चुकाया ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
6 Likes · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
बेवफाई उसकी दिल,से मिटा के आया हूँ।
पूर्वार्थ
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
■ संपर्क_सूत्रम
■ संपर्क_सूत्रम
*प्रणय प्रभात*
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
तुम हमेशा से  मेरा आईना हो॥
तुम हमेशा से मेरा आईना हो॥
कुमार
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
राही
राही
Neeraj Agarwal
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
VINOD CHAUHAN
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
"हमदर्द आँखों सा"
Dr. Kishan tandon kranti
कर लो कर्म अभी
कर लो कर्म अभी
Sonam Puneet Dubey
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
Loading...