Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2017 · 1 min read

किसके भरोसे ?

“किसके भरोसे”
——————
छोड़ गई हो !
किसके भरोसे ?
हे ! दीपशिखा तू !
मीत को |
तेरा जाना !
रास ना आया !
मेरे हृदय की
प्रीत को |
धड़कन हो गई
सूनी-सूनी
तू छेड़ गई
विरह-गीत को |
विरह-वेदना
दोनों मिलकर
सता रही हैं !
“दीप” को ||
——————————
– डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Language: Hindi
211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
थोड़ा  ठहर   ऐ  ज़िन्दगी
थोड़ा ठहर ऐ ज़िन्दगी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल को दिल से खुशी होती है
दिल को दिल से खुशी होती है
shabina. Naaz
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
पल
पल
Sangeeta Beniwal
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
कभी सोचा हमने !
कभी सोचा हमने !
Dr. Upasana Pandey
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
शेखर सिंह
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
अपना सब संसार
अपना सब संसार
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...