Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

किताब / पुस्तक

वर्ण पिरामिड
शीर्षक – किताब / पुस्तक
—————–

ये
ज्ञान
सागर
अनमोल
अपरम्पार
पुस्तक संसार
जाने वो ही समझे !

***

२)
है
यह
खजाना
ज्ञान मित्र
बढ़े रुआब
मूर्खों की दुश्मन
बुद्धि भरी किताब !

****
डॉ. अनिता जैन “विपुला”

Language: Hindi
Tag: हाइकु
374 Views
You may also like:
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
बेताब दिल की तमन्ना
VINOD KUMAR CHAUHAN
वफा और बेवफा
Anamika Singh
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
✍️शहीदों को नमन
'अशांत' शेखर
लोग कहते हैं कि कवि
gurudeenverma198
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
जयति जैन 'नूतन'
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
शाम सुहानी सावन की
लक्ष्मी सिंह
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
भटकता चाँद
Alok Saxena
■ लघुकथा / क्लोनिंग
*प्रणय प्रभात*
तंग नजरिए
shabina. Naaz
जवानी
Dr.sima
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पेश आना अब अदब से।
Taj Mohammad
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहे भगवान महावीर वचन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
A poor little girl
Buddha Prakash
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
आज भी ज़िंदगी से डरते हैं
Dr fauzia Naseem shad
*कृष्ण जैसा मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
करता कौन जाने
Varun Singh Gautam
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...