Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

किताब / पुस्तक

वर्ण पिरामिड
शीर्षक – किताब / पुस्तक
—————–

ये
ज्ञान
सागर
अनमोल
अपरम्पार
पुस्तक संसार
जाने वो ही समझे !

***

२)
है
यह
खजाना
ज्ञान मित्र
बढ़े रुआब
मूर्खों की दुश्मन
बुद्धि भरी किताब !

****
डॉ. अनिता जैन “विपुला”

Language: Hindi
632 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
🙅बदली कहावत🙅
🙅बदली कहावत🙅
*Author प्रणय प्रभात*
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
आभरण
आभरण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
फेसबुक गर्लफ्रेंड
फेसबुक गर्लफ्रेंड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तमन्ना है तू।
तमन्ना है तू।
Taj Mohammad
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
आपकी खुशी
आपकी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
हरवंश हृदय
संतोष
संतोष
Manju Singh
खेल करे पैसा मिले,
खेल करे पैसा मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
Loading...