Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर

कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर

जीते जी , जो ये शोर बहुत करा करते थे ।

1 Like · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किससे कहे दिल की बात को हम
किससे कहे दिल की बात को हम
gurudeenverma198
क्या छिपा रहे हो
क्या छिपा रहे हो
Ritu Asooja
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
मैं और तुम-कविता
मैं और तुम-कविता
Shyam Pandey
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दस्त बदरिया (हास्य-विनोद)
दुष्यन्त 'बाबा'
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
" लक्ष्य सिर्फ परमात्मा ही हैं। "
Aryan Raj
*राजा और रियासतें , हुईं राज्य सरकार (कुंडलिया)*
*राजा और रियासतें , हुईं राज्य सरकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये मेरा स्वयं का विवेक है
ये मेरा स्वयं का विवेक है
शेखर सिंह
*
*"सिद्धिदात्री माँ"*
Shashi kala vyas
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
विचार, संस्कार और रस-4
विचार, संस्कार और रस-4
कवि रमेशराज
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
Anand Kumar
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
Loading...