Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

कितना लिखता जाऊँ ?

कितना लिखता जाऊँ ?
यादें ना होती उनकी ख़तम
कितना लिखता जाऊँ ?
हैं शब्द उनपर अनन्त
मेरी लिखीं कविताओं को
क्या कभी पढ़ पायेगी वो ?
या उनका सारा वक्त यू ही
लोगों कि खिदमत करने में हो जायेगा ख़त्म!!!

✍️ D k

1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
पत्ते बिखरे, टूटी डाली
Arvind trivedi
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
■ विश्व-स्तरीय कुंडली
■ विश्व-स्तरीय कुंडली
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
लक्ष्मी सिंह
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आइये तर्क पर विचार करते है
आइये तर्क पर विचार करते है
शेखर सिंह
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
लगाओ पता इसमें दोष है किसका
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बचपन
बचपन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...