Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2017 · 1 min read

कितना बदल गया गुरुज्ञान –

एक पैरोडी

देख यहाँ स्कूलों की हालत
क्या हो गई भगवान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

ज्ञानी विज्ञानी शिक्षक को
सीखा रहे विज्ञान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

पुस्तक के संग कॉपी भी है
और शिक्षक ने जाँची भी है
‘शालासिद्धि’ की भी प्रसिद्धि
टूल आयाम ही रिद्धि सिद्धि
फिर भी बच्चा सीख ना पाया
अक्षर की पहचान।।
कितना बदल गया गुरुज्ञान

दमघोटूं सा तंत्र प्रयोगी
परपंची सा बिन उपयोगी
शिक्षा अब तो हुई मशीनी
भाव चदरिया हो गई झीनी
पांच कह रहे अब तो बच्चे
दो धन दो का मान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

डिजिटल हो गई दुनिया सारी।
इंटरनेट की बड़ी बीमारी।।
नेट लेट से हेट है होती
सरवर से ना भेट है होती
मोबाइल से हो गए हैं अब
सब शिक्षक परेशान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

मुफ्त किताबें और सायकिलें
पैदा करती हैं मुश्किलें
गुणवत्ता गणवेश का भाषण
जैसे घर में खतम हो राशन
एम डी एम ने बना ही डाला
शिक्षक को मेजबान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

‘मिल बांचे’ का असर देख लो
बची निकाला कसर देख लो
कमर तोड़कर रख डाला है
खोले शिक्षक हर ताला है
बोझिल शिक्षक अरु कम्प्यूटर
बोझ तले हैं जान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

काम अनेकों मत करवाओ
शिक्षक से केवल पढ़वाओ
समय पे उनको वेतन दे दो
और पढ़ाने को मन दे दो
मत कर देना शिक्षक का तुम
जनगणमन अपमान
कितना बदल गया गुरुज्ञान

-साहेबलाल “सरल”
8989800500

Language: Hindi
Tag: गीत
607 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
दोहा
दोहा
sushil sarna
बंधन
बंधन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
Ravi Prakash
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
जिस चीज में दिल ना लगे,
जिस चीज में दिल ना लगे,
Sunil Maheshwari
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
पहला प्यार सबक दे गया
पहला प्यार सबक दे गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
■ उनके लिए...
■ उनके लिए...
*प्रणय प्रभात*
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
Suryakant Dwivedi
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
ruby kumari
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
गुमनाम 'बाबा'
गम
गम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...