Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2016 · 1 min read

काले नोटों का कारोबार बंद हुआ

काले नोटों का कारोबार बंद हुआ….
नकली नोटों का भी बाजार बंद हुआ।

सोना,मकां चुटकी में खरीद लेते थे
कालेधन का काला व्यापार बंद हुआ।

बस इक ख़ालिस लीडर की हिम्मत से
पत्थरबाजों का भी प्रहार बंद हुआ।

मास्टर स्ट्रोक से वापिस आया बैंकों में
सेठों की तिज़ोरी का आहार बंद हुआ।

बड़े राजनेता और पार्टियां करेंगी क्या?
काली नीतियों का भी दरबार बंद हुआ।

एक अदद घर अब मेरे नसीब भी होगा
प्रॉपर्टी का जो कालाबाजार बंद हुआ।

हम भी हैं लाइन में,तुम भी हो लाइन में
जन-जन है साथ कि भ्रस्टाचार बंद हुआ।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़

7 Comments · 743 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅लिख के रख लो🙅
🙅लिख के रख लो🙅
*Author प्रणय प्रभात*
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसको देखें
उसको देखें
Dr fauzia Naseem shad
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
3265.*पूर्णिका*
3265.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
गुमनाम 'बाबा'
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
Phool gufran
सीख गुलाब के फूल की
सीख गुलाब के फूल की
Mangilal 713
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
gurudeenverma198
मेरे राम तेरे राम
मेरे राम तेरे राम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...