Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

कारगिल विजय दिवस

कारगिल विजय दिवस पर…….

हवा का रुख किधर होगा सही पहचानते हैं हम
वही करके दिखा देते जो मन में ठानते हैं हम।
वतन का कर्ज़ है हम पर हमारे खूं का हर कतरा
इसे कैसे चुकाना है ब खूबी जानते हैं हम। –आर.सी.शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
Tag: कविता
1519 Views
You may also like:
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो...
Chaurasia Kundan
कन्या पूजन
Ashish Kumar
रह गया मैं सिर्फ " लास्ट बेंच "
Rohit yadav
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Book of the day: काव्य संग्रह
Sahityapedia
महाराणा प्रताप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनपढ़ रखने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
FATHER IS REAL GOD
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मैंने भी
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी दोहा-टोपी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेचने वाले
shabina. Naaz
अहोई आठे(बाल कविता)
Ravi Prakash
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
वो प्रकाश बन कर आई जिंदगी में
J_Kay Chhonkar
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
'अशांत' शेखर
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
Loading...