Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

कारगिल विजय दिवस

कारगिल विजय दिवस पर…….

हवा का रुख किधर होगा सही पहचानते हैं हम
वही करके दिखा देते जो मन में ठानते हैं हम।
वतन का कर्ज़ है हम पर हमारे खूं का हर कतरा
इसे कैसे चुकाना है ब खूबी जानते हैं हम। –आर.सी.शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
1632 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
बेवक़ूफ़
बेवक़ूफ़
Otteri Selvakumar
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
माँ की गोद में
माँ की गोद में
Surya Barman
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
जेएनयू
जेएनयू
Shekhar Chandra Mitra
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
Suryakant Dwivedi
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
"सफ़ीना हूँ तुझे मंज़िल दिखाऊँगा मिरे 'प्रीतम'
आर.एस. 'प्रीतम'
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2467.पूर्णिका
2467.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मशवरा"
Dr. Kishan tandon kranti
*नेता टुटपुंजिया हुआ, नेता है मक्कार (कुंडलिया)*
*नेता टुटपुंजिया हुआ, नेता है मक्कार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
Rekha Drolia
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
Loading...