Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2018 · 1 min read

कानून का राज

कानून का राज है

किसी का बदन जो उघाड़े यहां पर,,
वो कैसे भला खुश रहेगा वहां पर,,

झांसे ही झांसे किये जिसने हमेशा,,
न आशा मिली न ही राम यहां पर,,

टूटे बहुत धर्मवादी,बहु गुण प्रवीना,,
हथौड़ी जब चली जज की यहाँ पर,,

शिखर से वो धूलि मैं मिल गये है,,
कानून जिनका अलग था जहां पर,,

बाबा साहेब की कलम का लेख है जो,,
मनु सब जानलो वो अमिट है यहां पर,,
मानक लाल मनु,,,,,?

Language: Hindi
1 Comment · 440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
Dheerja Sharma
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता
कविता
Neelam Sharma
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
प्यारे बच्चे
प्यारे बच्चे
Pratibha Pandey
ज़िंदगी दफ़न कर दी हमने गम भुलाने में,
ज़िंदगी दफ़न कर दी हमने गम भुलाने में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
जीवन की परिभाषा क्या ?
जीवन की परिभाषा क्या ?
Dr fauzia Naseem shad
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
** लोभी क्रोधी ढोंगी मानव खोखा है**
** लोभी क्रोधी ढोंगी मानव खोखा है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
गुमनाम 'बाबा'
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
चाल चलें अब मित्र से,
चाल चलें अब मित्र से,
sushil sarna
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
ये सिलसिले ऐसे
ये सिलसिले ऐसे
Dr. Kishan tandon kranti
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
23/151.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/151.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
Loading...