Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2022 · 2 min read

कांग्रेस की ढहती इमारत …

जब इमारत के निवासी मान चुके ।
इसका अंजाम भी वो जान चुके ।
छोड़ कर जा रहे है बारी बारी सभी ,
जो अंधकार इसके भविष्य का देख चुके ।

ना जाने इमारत का मालिक क्यों है अंजान,
उसे क्यों नहीं दिखता यह जर्र जर्र मकान ।
कुछ दिमकों ने ,कुछ जंग ने डेरा है जमाया ,
दिखने लगेगा थोड़े समय में ही खंडहर समान।

इसके युवराज की तो बात ही मत पूछिए ,
यह बड़बोलापन और अधूरा सामान्य ज्ञान ।
क्या छवि बनाता है मन में यह सोचिए ।
हम तो कहेंगे इसे साफ शब्दों में पागलपन।

ऐसे ” पप्पू “के हाथों में देंगे यह जागीर !
कितने अयोग्य है यह तो है जग जाहिर ।
विनाश ही होगा पुरखो की अमानत का ,
मगर यह समझते है खुद को यूं ही माहिर।

संस्कार ,संस्कृति और सभ्यता नींव में थी ,
वोह बिलकुल ही हिल चुकी है ।
देशभक्ति और समाज कल्याण की भावनाएं,
रंगहीन और चमक लगभग मिट चुकी है ।

बस ! अब यूं समझ लो इसका अंत आ चुका,
इसे बचाना अब बहुत ही कठिन होगा ।
ना मिला इसे यदि कुशल और योग्य नाविक ,
तो इस कश्ती का डूबना निश्चित होगा ।

योग्य ,कुशल और अनुभवी तो बहुत है इसमें,
मगर उनकी कोई कद्र ही नहीं ।
जाने किन परदों के पीछे छुपा रखा है उनको ,
जैसे उनका कोई अस्तित्व ही नहीं।

एक विदेशी महिला ,उसकी बेटी और बेटा ,
बस ! यही उस इमारत के मालिक हो गए।
यही तो है ” आला कमान” हां ! बस यही ,! ,
और बाकी तो इनके दास हो गए ।

यह दुर्भाग्य बदा था देखना इस इमारत का ,
जिसने अपने जीवन में सुनहरे दिन देखे ।
हाय ! कभी नहीं सोचा था इस अंजाम का ,
जो इसके प्रारब्ध की कलम ने लिखे ।

Language: Hindi
2 Likes · 6 Comments · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
"ओ मेरी लाडो"
Dr. Kishan tandon kranti
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रहार-2
प्रहार-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
बिटिया की जन्मकथा / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
देखना हमको
देखना हमको
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की नैया
जीवन की नैया
भरत कुमार सोलंकी
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
* निर्माता  तुम  राष्ट्र  के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
* निर्माता तुम राष्ट्र के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम*【कुंडलिय
Ravi Prakash
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ब है साहब!
ग़ज़ब है साहब!
*प्रणय प्रभात*
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
Mahima shukla
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...