Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2022 · 1 min read

काँटा और गुलाब

जिन्दगी से हमें हमेशा
कभी काँटा कभी गुलाब मिला
इसी कहानी के बीच में
हमारी ज़िन्दगानी टिका रहा।

~अनामिका

Language: Hindi
2 Likes · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
हे देश के जवानों !
हे देश के जवानों !
Buddha Prakash
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
💐प्रेम कौतुक-324💐
💐प्रेम कौतुक-324💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविता -
कविता - "क्या हुआ जो नंबर कम आए हैं "
Anand Sharma
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
मस्ती का त्यौहार है,  खिली बसंत बहार
मस्ती का त्यौहार है, खिली बसंत बहार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*Author प्रणय प्रभात*
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क का भी आज़ार होता है।
इश्क का भी आज़ार होता है।
सत्य कुमार प्रेमी
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...