Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2017 · 1 min read

कहीं तुम खूँ बहाना मत

(विधाता छंद)
मापनी 1222 1222 1222 1222
पदांत- मत
समांत- आना

कभी टूटे हुए दरपन, से’ घर को तुम सजाना मत.
कभी टूटे हुए तारों, से’ सब को तुम मिलाना मत.

कभी मत आजमाना तुम, कभी मत मान जाना तुम,
कभी खातिर बदौलत ही, किसी को तुम सताना मत.

कभी करना तो’ सजदा बस, खुदा के दर पे’ दीवाने,
कभी सर हर किसी के दर, कहीं भी तुम झुकाना मत.

कभी देखे समंदर क्या, मुहब्बत में फना होते,
कभी भी चाँद की खातिर, यह’ जीवन तुम मिटाना मत.

कभी ‘आकुल’ मिटाना हो, तो’ खातिर देश की मिटना,
कभी नापाक राहों पर, कहीं खूँ तुम बहाना मत.

1 Comment · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
अगर आपके पैकेट में पैसा हो तो दोस्ती और रिश्तेदारी ये दोनों
Dr. Man Mohan Krishna
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
Ravi Prakash
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
"कैसे कहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
अनकहा दर्द (कविता)
अनकहा दर्द (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
राजनीति
राजनीति
Awadhesh Kumar Singh
दोहा पंचक. . . . नवयुग
दोहा पंचक. . . . नवयुग
sushil sarna
"" *दिनकर* "'
सुनीलानंद महंत
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
THE FLY (LIMERICK)
THE FLY (LIMERICK)
SURYA PRAKASH SHARMA
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
Loading...