Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

कहानी :#सम्मान

#DailyWritingChallenge
आज का विषय :#सम्मान
विधा: कहानी

निशी और रोहित ने आज अपनी शादी की 10वीं सालगिरह की पार्टी बहुत ही नामी होटल में रखी थी।
दोस्तों के बीच दोनों की जोड़ी बहुत ही खूबसूरत और लाजबाब मानी जाती थी। सोलह श्रृंगार किए मांग मे सिंदूर सजाये निशी बहुत सुन्दर लग रही थी।
लेकिन बाहरी तौर पर लाजबाब दिखने वाली ये जोड़ी असलियत में किस वजह से अभी तक बनी और निभ रही थी ये कोई नहीं जानता था।
लेकिन उस दिन पार्टी में जो कुछ हुआ सबके सामने उस रिश्ते की सच्चाई आ गई।
रोहित शराब के नशे में जब अपनी पत्नी निशी पर किसी बात पर बहुत चिल्लाने लगा था, वहीं उसकी पत्नी निशी खामोशी से ये सब सुनती रही।
उस समय सभी ये तमाशा देख रहे थे,… एक के शब्दों ने जहाँ उच्च शिक्षित होने के वाबजूद उसकी(रोहित) मूर्खता और अशिष्टता का, तो दूसरे (निशी) की खामोशी ने उसकी शिक्षा में बुद्धिमता और अपने सिंदूर की गरिमा दिखाते शालीनता का परिचय दे दिया था।
रोहित ने अपने व्यवहार से सभी की नज़र में अपना सम्मान खो दिया था वहीं निशी ने सबकी दृष्टि में अपने लिए सम्मान पा लिया था ।

© उषा शर्मा
जामनगर (गुजरात)

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बरसातें सबसे बुरीं (कुंडलिया )
बरसातें सबसे बुरीं (कुंडलिया )
Ravi Prakash
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
सच्चे प्रेम का कोई विकल्प नहीं होता.
सच्चे प्रेम का कोई विकल्प नहीं होता.
शेखर सिंह
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
नक़ली असली चेहरा
नक़ली असली चेहरा
Dr. Rajeev Jain
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
अनुभव एक ताबीज है
अनुभव एक ताबीज है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
आज अचानक फिर वही,
आज अचानक फिर वही,
sushil sarna
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...