Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2022 · 2 min read

*”ममता”* पार्ट-2

गतांक से आगे. . .
रात को उन्होंने दादाजी को ये बात बताई, हालाँकि दादाजी को भी बात अटपटी लगी मगर वे इसे टाल गए, बात आई गई हो गई. मगर दादीजी ने विशेष ध्यान के साथ गाय की हरकतों का निरिक्षण करने का विचार किया, अगले दिन सुबह जब वे गाय दुहने गए तो उन्होंने देखा कि गाय पहले से ही तैयार खड़ी है, और दिनों की तरह आज वो अपने बछड़े को भी दूध नहीं पीने दे रही है. दादीजी ने दुहते समय महसूस किया कि रोजाना से आज आसानी से दूध आ रहा है. दादीजी गाय को दुह कर खड़े हुए मगर उन्हें ऐसा लग रहा था मानो गाय अभी और दूध देना चाहती है, वे इस गाय की पिछले १० वर्षों से सेवा कर रहे हैं मगर आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ जो पिछले २ दिनों से हो रहा है. शाम को जब सरिता बहू गाय दुहने आई तो दादाजी भी घर पर थे, दादीजी ने उसे बाल्टी देते हुए कहा तुम चलो मैं दादाजी को चाय देकर आती हूँ, सरिता बाल्टी लेकर गौशाला की तरफ बढ़ी तो गाय, जो बैठी थी सरिता को देखते ही खड़ी हो गई. सरिता ने कल की तरह बाल्टी रख कर जैसे ही दूध दुहने का प्रयास किया दूध अपने आप आने लगा और देखते देखते बाल्टी भरने लगी.
सरिता जोर से चिल्लाई, तो दादाजी और दादीजी दोनों भागे हुए आये. उन्होंने जो नजारा देखा तो सन्न रह गए, बाल्टी भर चुकी थी, मगर गाय के थनों से दूध अब भी निकल रहा था. दादीजी ने झट से बाल्टी हटाई तो जैसे चमत्कार हो गया हो, थनों से दूध आना बंद हो गया, सबने देखा ऐसा लग रहा था मानो इतना दूध देकर गाय को ख़ुशी मिल रही थी. घर आकर सरिता ने राजेश को ये बात बताई तो उसने इस बात को एक मजाक समझ कर टाल दिया. पुरे मोहल्ले में बात फ़ैल गई मगर कोई विश्वास करने को तैयार नहीं था. क्योंकि बड़े बुजुर्गों ने भी ऐसा ना कभी देखा था और ना सुना. अब तो बात कल शाम तक पर आकर रुक गई. देखते हैं कल क्या होगा… क्रमशः…

1 Like · 521 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
–स्वार्थी रिश्ते —
–स्वार्थी रिश्ते —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
SPK Sachin Lodhi
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
बथुवे जैसी लड़कियाँ /  ऋतु राज (पूरी कविता...)
बथुवे जैसी लड़कियाँ / ऋतु राज (पूरी कविता...)
Rituraj shivem verma
केवल पंखों से कभी,
केवल पंखों से कभी,
sushil sarna
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
चलो मनाएं नया साल... मगर किसलिए?
Rachana
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
23/174.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/174.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...