Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2023 · 1 min read

कहां गए बचपन के वो दिन

कहां गए बचपन के वो दिन
नटखट नादान शरारती हुआ करते थे ,
सबको परेशान किया करते थे।
पापा की डाट फटकार सुनकर ,
फिर से गलतियां करते थे । कहां गए………….।
खेल खेल में दोस्तो से लड़ाई हुआ करते थे ,
और अगले दिन फिर से मिलकर खेला करते थे ।
पढ़ाई कम और शिक्षकों की डाट से,
दिन की सुरुआत किया करते थे। कहां गए……….।
सुबह से शाम तक व्यस्त रहा करते थे ,
न पढ़ाई न काम केवल खेल खेला करते थे ।
न किसी से भेदभाव न किसी से दुश्मनी रखा करते थे ।
सभी से मिलकर खुश रहा करते थे । कहां गए ……।

1 Like · 1 Comment · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
Bramhastra sahityapedia
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
कर लो कभी
कर लो कभी
Sunil Maheshwari
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
पिता
पिता
Manu Vashistha
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
हृदय वीणा हो गया।
हृदय वीणा हो गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...