Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 2 min read

कहाँ आ गया हूँ ?

कल सुबह से घर पर बैठे-२ थक चुका था और मन भी खिन्न हो चुका था शुक्रवार और रविवार का अवकाश जो था, तो सोचा कि क्यो ना कही घूम के आया जाए| बस यही सोचकर शाम को अपने मित्र के साथ मे पुणे शहर की विख्यात F. C. रोड चला गया, सोचा क़ि अगर थोड़ा घूम लिया जाएगा तो मन ताज़ा हो जाएगा, थकान दूर हो जाएगी||

शाम के करीब ७ बजे थे, बहुत ही व्यस्त जीवनशेली के बीच लोग व्यस्तता के मध्य से समय निकाल शहर की सबसे व्यस्त सड़को पर घूमने आते है,कोई महँगी-२ कार चलाकर आया है तो कोई साथ मे ड्राइवर लाया है| पर यहाँ का नज़ारा भी अपने आप मे बहुत विचित्र होता है, सड़क के दोनो किनारे पगडंदियो पर लोगो का सैलाब और हज़ारो नज़रे कुछ ढूंडती हुई, लगे कि जैसे सबको किसी ना किसी चीज़ की ना जाने कब से तलाश है|

कुछ ही समय मे मै भी उस भीड़ का हिस्सा बन कर कही खो गया, बस चला जा रहा था एक ही दिशा मे| सड़क के दोनो किनारे दुकानो की कतारे जैसे कि अपने गाँव मे मेले मे होती थी और इन दुकानो पर लोगो का हुजूम लगे की मानो मंदिर मे प्रसाद बॅट रहा है| कुछ दुकाने कपड़ो की खरीदारी के लिए, तो कुछ खाने के शौकीन लोगो के लिए पूरी तरह से समर्पित लग रही थी| थोड़ी देर मै भी इसी भीड़ मे खोया रहा, अपने मित्र के कहने पर एक पोशाक भी खरीद ली और वापस लौटने का निर्णय किया||

वापस लौटने के लिए मैने जैसे ही बाइक पार्किंग एरिया से बाहर निकली, एक व्यक्ति जो की साइकल पर था पास आकर बोला- “सर, आप एक गुब्बारा खरीद लीजिए मेरी बेटी भूखी है सुबह से कुछ नही खाया है हम दोनो ने, मै भूखा सो सकता हूँ पर बच्चा नही सो पाएगा” | एक पुरानी सी साइकल जिस पर कुछ गुब्बारे लगे थे, साथ मे ही एक गंदा सा थैला लटका था जिसमे शायद कुछ रखा था, साइकल के आंगे फ्रेम पर एक छोटी सी(शायद २ या ३ साल की) लड़की बैठी थी जिसको देख कर लगा की ना जाने कब से भूखी है, मुझे लगा क़ि
ये अचानक मै कहाँ आ गया हूँ ? क्या अभी भी लोग २ वक़्त की रोटी को मोहताज है? क्या लोग अपने आसपास की वास्तविकता को देखना नही चाहते? क्या हम सब अपने आप तक सीमित हो चुके है? कहाँ है रोज़गार गारंटी क़ानून ? ऐसे ही ना जाने कितने सवालो को अपने मन मे लिए, उस साइकल वाले व्यक्ति के हाथ मे कुछ पैसे थमा कर वापस चला घर आया||

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Comments · 363 Views
You may also like:
ज़ख़्म दिल का
मनोज कर्ण
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
Dr Archana Gupta
और मैं बहरी हो गई
Kaur Surinder
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
जिसका प्रथम कर्तव्य है जनसेवा नाम है भुनेश्वर सिन्हा,युवा प्रेरणा...
Bramhastra sahityapedia
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
टूटता तारा
Ashish Kumar
दिल की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#पहली_बाल_कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
इक सनम चाहतें हैं।
Taj Mohammad
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
कवि दीपक बवेजा
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदला सा......
Kavita Chouhan
✍️मेरी शख़्सियत✍️
'अशांत' शेखर
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
कृष्णा को कृष्णा ही जाने
Satish Srijan
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️महज़ बातें ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
दूरी रह ना सकी, उसकी नए आयामों के द्वारों से।
Manisha Manjari
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
देखता हूँ प्यासी निगाहों से
gurudeenverma198
जिसने सोचा मुझे नहीं होगा
Dr fauzia Naseem shad
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...