Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

कहाँ आ गया हूँ ?

कल सुबह से घर पर बैठे-२ थक चुका था और मन भी खिन्न हो चुका था शुक्रवार और रविवार का अवकाश जो था, तो सोचा कि क्यो ना कही घूम के आया जाए| बस यही सोचकर शाम को अपने मित्र के साथ मे पुणे शहर की विख्यात F. C. रोड चला गया, सोचा क़ि अगर थोड़ा घूम लिया जाएगा तो मन ताज़ा हो जाएगा, थकान दूर हो जाएगी||

शाम के करीब ७ बजे थे, बहुत ही व्यस्त जीवनशेली के बीच लोग व्यस्तता के मध्य से समय निकाल शहर की सबसे व्यस्त सड़को पर घूमने आते है,कोई महँगी-२ कार चलाकर आया है तो कोई साथ मे ड्राइवर लाया है| पर यहाँ का नज़ारा भी अपने आप मे बहुत विचित्र होता है, सड़क के दोनो किनारे पगडंदियो पर लोगो का सैलाब और हज़ारो नज़रे कुछ ढूंडती हुई, लगे कि जैसे सबको किसी ना किसी चीज़ की ना जाने कब से तलाश है|

कुछ ही समय मे मै भी उस भीड़ का हिस्सा बन कर कही खो गया, बस चला जा रहा था एक ही दिशा मे| सड़क के दोनो किनारे दुकानो की कतारे जैसे कि अपने गाँव मे मेले मे होती थी और इन दुकानो पर लोगो का हुजूम लगे की मानो मंदिर मे प्रसाद बॅट रहा है| कुछ दुकाने कपड़ो की खरीदारी के लिए, तो कुछ खाने के शौकीन लोगो के लिए पूरी तरह से समर्पित लग रही थी| थोड़ी देर मै भी इसी भीड़ मे खोया रहा, अपने मित्र के कहने पर एक पोशाक भी खरीद ली और वापस लौटने का निर्णय किया||

वापस लौटने के लिए मैने जैसे ही बाइक पार्किंग एरिया से बाहर निकली, एक व्यक्ति जो की साइकल पर था पास आकर बोला- “सर, आप एक गुब्बारा खरीद लीजिए मेरी बेटी भूखी है सुबह से कुछ नही खाया है हम दोनो ने, मै भूखा सो सकता हूँ पर बच्चा नही सो पाएगा” | एक पुरानी सी साइकल जिस पर कुछ गुब्बारे लगे थे, साथ मे ही एक गंदा सा थैला लटका था जिसमे शायद कुछ रखा था, साइकल के आंगे फ्रेम पर एक छोटी सी(शायद २ या ३ साल की) लड़की बैठी थी जिसको देख कर लगा की ना जाने कब से भूखी है, मुझे लगा क़ि
ये अचानक मै कहाँ आ गया हूँ ? क्या अभी भी लोग २ वक़्त की रोटी को मोहताज है? क्या लोग अपने आसपास की वास्तविकता को देखना नही चाहते? क्या हम सब अपने आप तक सीमित हो चुके है? कहाँ है रोज़गार गारंटी क़ानून ? ऐसे ही ना जाने कितने सवालो को अपने मन मे लिए, उस साइकल वाले व्यक्ति के हाथ मे कुछ पैसे थमा कर वापस चला घर आया||

2 Comments · 286 Views
You may also like:
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
इश्क
Anamika Singh
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
पिता
Dr.Priya Soni Khare
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...