Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2023 · 1 min read

कहमुकरी

कहमुकरी

जपूँ अहर्निश उसका नाम।
बनाए बिगड़े सारे काम।
वही मुक्ति वही चारों धाम।
क्या सखि साजन ? ना सखि राम।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

1 Like · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
"कमाल"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
हाल- ए- दिल
हाल- ए- दिल
Dr fauzia Naseem shad
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
■ लोकतंत्र की जय।
■ लोकतंत्र की जय।
*प्रणय प्रभात*
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
कार्यक्रम का लेट होना ( हास्य-व्यंग्य)
कार्यक्रम का लेट होना ( हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...