Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 1 min read

कहने से

बिगड़ जाती है बात कई बार चुप रहने से
जाग गए तुलसी जागे हनुमान अपनो के सच कहने से

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 358 Views
You may also like:
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रिश्ता
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
विषपान
Vikas Sharma'Shivaaya'
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
आओ हम सब घर घर तिरंगा फहराए
Ram Krishan Rastogi
इतना आसां कहां
कवि दीपक बवेजा
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
*मित्र ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
भूल जाने की क्या
Dr fauzia Naseem shad
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
" की बोर्ड "
Dr Meenu Poonia
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे हमदम मेरे दिलबर मेरे हमराज हो तुम। मेरे दिल...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️गलत बात है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अपनी पीर बताते क्यों
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आफताबे रौशनी मेरे घर आती नहीं।
Taj Mohammad
तीर्थ यात्रा
विशाल शुक्ल
पहले प्यार में
श्री रमण 'श्रीपद्'
फ़ौजी
Lohit Tamta
मिसाल
Kanchan Khanna
मीडिया की जवाबदेही
Shekhar Chandra Mitra
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
हाँथो में लेकर हाँथ
Mamta Rani
सिस्टर
shabina. Naaz
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
यही हमारा है धर्म
gurudeenverma198
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
Indian Women
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...