Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 2, 2022 · 1 min read

कहने से

बिगड़ जाती है बात कई बार चुप रहने से
जाग गए तुलसी जागे हनुमान अपनो के सच कहने से

1 Like · 107 Views
You may also like:
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H. Amin
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
संघर्ष
Arjun Chauhan
पिता
Santoshi devi
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...