Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2019 · 1 min read

कहना आसान है

बहुत ही आसान है सुंदर और प्रभावी व्याख्यान देना अथवा लिख देना।
जीवन के कठिन तम पहलुओं को सहजता से उकेर देना।
गांव के कठिन और जटिल जीवन की कहानियां बनाना अथवा लिख देना।
मरुस्थल के सुन्दर और दुर्लभ चित्र कैमरे में कैद करके प्रकृति के नजदीक ले जाना।
वास्तव में कठिन ही नहीं बल्कि नामुमकिन है केवल एक ही क्षण उस वास्तविकता में जीवन जी लेना।
हजारों कहानियां ,पोस्ट रोज प्यार और संगठन पर डाली जाती हैं।
फिर क्यों घरों में रिश्तों की फुलवारियां मुरझाई जाती है।
लिखा जाता है सम्मान करो बुजुर्गों का फिर क्यों घरों में रिश्तों की धज्जियां उड़ाई जाती है।
हजारों कथन बताए जाते हैं भेदभाव मिटाने को फिर क्यों घरों में जन्म दात्री स्वार्थी बन जाती है।
बहुत ही आसान है मां बन जाना किन्तु कठिन ही नहीं बल्कि नामुमकिन है संतान को समभाव वात्सल्य देना।
कहना देना आसान है कि जरुरत मंद की मदद करेंगे।
अपनी आय का एक निश्चित भाग कहीं भी किसी पुण्य कार्य में व्यय करेंगे।
किसी गरीब का आशियाना उजड़ने नहीं देंगे।
बड़ी बड़ी पोस्ट डालेंगे और वाह वाह करेंगे।
किन्तु वास्तव में रेखा हम सभी पहल करने में आनाकानी करेंगे।
इसे कहते हैं कि कल्पना के सागर में सिर्फ आनन्द के गोते लेना।

Language: Hindi
1 Like · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्वास
विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
जनता का पैसा खा रहा मंहगाई
नेताम आर सी
3520.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3520.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
-- कटते पेड़ --
-- कटते पेड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
■ जय हो।
■ जय हो।
*प्रणय प्रभात*
महाकाल
महाकाल
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
जख्म पाने के लिए ---------
जख्म पाने के लिए ---------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
Sangeeta Beniwal
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*प्यार से और कुछ भी जरूरी नहीं (मुक्तक)*
*प्यार से और कुछ भी जरूरी नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
एकतरफ़ा इश्क
एकतरफ़ा इश्क
Dipak Kumar "Girja"
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
Loading...