Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का

कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का
हैं प्रतीक आन बान शान का
जो देखे बुरी नजर से
उठाओ तलवार
भारत माँ के सपूतों
कर दो अलग सर को धड़ से !
भले कट जाए सर
मेरे देश के सपूतों
कह दो दुनिया वालों से
हम भी नहीं हैं कम
भारत माँ के चरणों में
जान दे देंगे हँस के !
अरे ! देश के दुश्मनों
जितने बहाए हैं लहूँ तूने
भारत माँ के बेटो पर
एक -एक का बदला लेंगे
आज हम इंसाफ करेंगे
देश द्रोहियों को माफ़ न करेंगे
कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का
सीना तान के कहेंगे !
अरे ! सुन हिन्दुस्तान का संतान,
पाकिस्तान
इतना ना बन हैवान
कान खोल के सुन ले
कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का !
जिस दिन जाग खडे होंगे
ज्वालामुखी बन जायेंगे
अरे न लो तुम
देश के दुश्मनो
सहनशक्ति की परीक्षा
हिन्दुस्तान का !
सोच उस दिन क्या होंगे
जब सारा हिन्दुस्तान
सरहद के पार खडे होंगे
जय हिंद की अनुगुंज सुनाई देंगे
हम वीर पुत्र भारत माँ के
हमारी जान से प्यारा
देश की मिट्टी
इसकी रक्षा हम जान दे कर करेंगे
भारत माँ की कसम
जय हिंद की गीत गायेंगे
कश्मीर की कोने कोने मे
तिरंगा फहरायेंगे !!

Language: Hindi
547 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
* ज़ालिम सनम *
* ज़ालिम सनम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चाँद की विकृति
चाँद की विकृति
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
*रोग से ज्यादा दवा, अब कर रही नुकसान है (हिंदी गजल)*
*रोग से ज्यादा दवा, अब कर रही नुकसान है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
Madhuyanka Raj
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
तो अब यह सोचा है मैंने
तो अब यह सोचा है मैंने
gurudeenverma198
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
Loading...