Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

कशमकश

चलो एक पहल करते है
महिलाओं को उनकी
कशमकश की जिन्दगी से बाहर निकालते है
बहुत जी लिए उन्होंने इस अधर मे
अब इस अधर से बाहर निकालते है।

आज भी बहुत सारी महिलाएँ है
जो सिर्फ कहने के लिए आजाद है
पर आज भी वह घर के भीतर गुलाम है
उन्हें इस गुलामी से आजाद कराते है।

आज भी वें अपने लिए
फैसला नही ले पाती है।
कुछ भी करने से पहले
सौ बार पूँछती है अपने घरो मे
यह काम करूँ या न करूँ मै।

आज भी उनकी जिन्दगी
दूसरे के हाँ और ना पर टीकी है
चलो एक पहल करते है
उन्हे इस कशमकश की जिन्दगी से
बाहर निकालते है।

अपनी जिन्दगी का फैसला
लेने का पुरा हक है उन्हें
यह आत्मविश्वास
उनके मन मे जगाते है
जी सकते है वह भी स्वाभिमान से
यह बात उनके दिलो-दिमाग मे डालते है।

दबी कुचली महिलाएँ जो घर मे
रोज हो रहे शोषण का शिकार होती है
कोई शिकारी शिकार न बनाएँ महिलाओ को
ऐसा कुछ पहल करते है।

हर घर मे जगाते है एक लौ
महिलाओ के सम्मान के लिए
हर घर मे दिलाते है उन्हें उनका सम्मान
चलो एक पहल करते है
उन्हें कशमकश की जिन्दगी से
बाहर निकालते है।

~अनामिका

Language: Hindi
8 Likes · 15 Comments · 325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
*कुछ नहीं मेरा जगत में, और कुछ लाया नहीं【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
"दूल्हन का घूँघट"
Ekta chitrangini
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*Author प्रणय प्रभात*
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
ज़िंदगी के कई मसाइल थे
Dr fauzia Naseem shad
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
जब जब ……
जब जब ……
Rekha Drolia
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
जीने का सलीका
जीने का सलीका
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
प्राकृतिक के प्रति अपने कर्तव्य को,
goutam shaw
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
जीवन के दिन थोड़े
जीवन के दिन थोड़े
Satish Srijan
Loading...