Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
Jun 28, 2022 · 1 min read

कशमकश

चलो एक पहल करते है
महिलाओं को उनकी
कशमकश की जिन्दगी से बाहर निकालते है
बहुत जी लिए उन्होंने इस अधर मे
अब इस अधर से बाहर निकालते है।

आज भी बहुत सारी महिलाएँ है
जो सिर्फ कहने के लिए आजाद है
पर आज भी वह घर के भीतर गुलाम है
उन्हें इस गुलामी से आजाद कराते है।

आज भी वें अपने लिए
फैसला नही ले पाती है।
कुछ भी करने से पहले
सौ बार पूँछती है अपने घरो मे
यह काम करूँ या न करूँ मै।

आज भी उनकी जिन्दगी
दूसरे के हाँ और ना पर टीकी है
चलो एक पहल करते है
उन्हे इस कशमकश की जिन्दगी से
बाहर निकालते है।

अपनी जिन्दगी का फैसला
लेने का पुरा हक है उन्हें
यह आत्मविश्वास
उनके मन मे जगाते है
जी सकते है वह भी स्वाभिमान से
यह बात उनके दिलो-दिमाग मे डालते है।

दबी कुचली महिलाएँ जो घर मे
रोज हो रहे शोषण का शिकार होती है
कोई शिकारी शिकार न बनाएँ महिलाओ को
ऐसा कुछ पहल करते है।

हर घर मे जगाते है एक लौ
महिलाओ के सम्मान के लिए
हर घर मे दिलाते है उन्हें उनका सम्मान
चलो एक पहल करते है
उन्हें कशमकश की जिन्दगी से
बाहर निकालते है।

~अनामिका

7 Likes · 13 Comments · 118 Views
You may also like:
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल को।
Taj Mohammad
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
ये जमीं आसमां।
Taj Mohammad
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
'अशांत' शेखर
पति पत्नी की नोक झोंक(हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
एक शहीद की महबूबा
ओनिका सेतिया 'अनु '
अनवरत सी चलती जिंदगी और भागते हमारे कदम।
Manisha Manjari
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मेरी हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
श्रृंगार
Alok Saxena
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
'नज़रिया'
Godambari Negi
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
अनामिका के विचार
Anamika Singh
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
Loading...