Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 1 min read

कव्वाली :– तेरी दीवानगी की हद सरहद पार ले आई !!

कव्वाली :– तेरी दीवानगी की हद
अनुज तिवारी “इन्दवार”

एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई !-५

नहीं मिलती यहाँ राहत ,
यहाँ मसहूर है चाहत ,
नहीं मजबूर ये चाहत ,
हमें मंजूर ये चाहत…….३
चाहत चाहत……
तेरी चाहत की ये लहरें हमे मझधार ले आईं !-३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई ! -५

आया महबूब को लेने
उसे लेकर ही जाऊँगा ,
सितम अब बस भी कर जालिम
नहीं कुछ कर ही जाऊँगा…३
कर जाऊँगा…….
तेरी दीवानगी की हद यूँ सरहद पार ले आई !-३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई !-५

रहमत कर मेरे मौला
मोहलत दे मेरे मौला ,
तेरा बंदा तेरे दर पर
बदल तकदीर दे मौला.-३
मौला मौला…..
तुझे पाने की जिद हमको यहाँ इस पार ले आई ! -३
एक तरफ बहता है दरिया एक तरफ है गहरी खाई ! -५

Language: Hindi
Tag: कव्वाली
3 Likes · 1 Comment · 1312 Views
You may also like:
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
अनपढ़ बनाने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
✍️कभी मिटे ना पाँव के वजूद
'अशांत' शेखर
*रिटायर होने के अगले दिन* (अतुकांत हास्य कविता)
Ravi Prakash
Rose
Seema 'Tu hai na'
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
काश
shabina. Naaz
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
बिन हमारे तुम एक दिन
gurudeenverma198
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
**चरम सीमा पर अश्लीलता**
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
मैं हरि नाम जाप हूं।
शक्ति राव मणि
उसूल
Ray's Gupta
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
■ सामयिक व्यंग्य / गुस्ताखी माफ़
*प्रणय प्रभात*
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी आदत खराब कर
Dr fauzia Naseem shad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चूहा दौड़
Buddha Prakash
अगर प्यार करते हो मुझको
Ram Krishan Rastogi
मेरे पापा
Anamika Singh
Loading...