Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2018 · 1 min read

कविता

सुनों, शहरीकरण की आधुनिक चकाचोंध से परे कभी कोशिश की है नारी के अस्तित्व को पहचानने की, जानने की। उस स्त्री शक्ति की जो सिल्क, मलमल और फैशन के क्षितिज पार है,जिसका बस बोझा ढोना ही जीवन आधार है।वह अबला सबल होकर खड़े होने का प्रयास करती है।

सिर पर बोझ लिये, नँगे पाँव बियाबान बीहड़ में चलती है।

भूखी प्यासी, दो जून भोजन की आस में,

फटी धोती से काया को ढकती है।

दिनकर के क्रोध को नित सहती,

लाचार हो धूप में जलती झुलसती है।

जिंदगी की तपती रेत में, चने सी भुनती है,

कंटीले रास्तों को नापती,सूखे होठ हांफती।

थकान से टूटी काया,झुलसता यौवन

लांछन अपमान और धुत्कार से पीड़ित मन।

छिपाकर रखती फटे अधरों पर मुस्कान,

फिर भी दिख जाते दुख सब छन छन ।

नीलम शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 410 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
मम्मी का ग़ुस्सा.
मम्मी का ग़ुस्सा.
Piyush Goel
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सेवा का क्षेत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तेरी मेरी ज़िंदगी की कहानी बड़ी पुरानी है,
तेरी मेरी ज़िंदगी की कहानी बड़ी पुरानी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"राजनीति में आत्मविश्वास के साथ कही गई हर बात पत्थर पर लकीर
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पंचचामर छंद*
*पंचचामर छंद*
नवल किशोर सिंह
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
पूर्वार्थ
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बचकर रहिए ग्रीष्म से, शुरू नौतपा काल (कुंडलिया)*
*बचकर रहिए ग्रीष्म से, शुरू नौतपा काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
Loading...