Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

कविता

शुभ प्रेरक तत्त्व समाहित हों जिसमे कुछ अर्थ महान दिखेI
अति सीमित शब्द असीमित भाव लिए गणबद्ध विधान दिखेI
गुणगौरव हो जिसमे प्रभु का शुचि मानवता हित ज्ञान दिखेI
कविता वह है जिसमे कवि के मन प्राण दिखें पहचान दिखेII
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
286 Views
You may also like:
*मय या मयखाना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
तानाशाह
Shekhar Chandra Mitra
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
उलझनें
Shashi kala vyas
जवाब दो
shabina. Naaz
■ आज की घोषणा.....
*Author प्रणय प्रभात*
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
मेरा परिवार
Anamika Singh
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
" कुरीतियों का दहन ही विजयादशमी की सार्थकता "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तोड़ें नफ़रत की सीमाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
हम आम से खास हुए हैं।
Taj Mohammad
आँसू
जगदीश लववंशी
काँटों का दामन हँस के पकड़ लो
VINOD KUMAR CHAUHAN
शुभ दीपावली
Dr Archana Gupta
सृष्टि रचयिता यंत्र अभियंता हो आप
Chaudhary Sonal
मेरे प्यारे पहाड़ 🏔️
Skanda Joshi
शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)
पूनम झा 'प्रथमा'
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरा दीदार
Dr fauzia Naseem shad
वो मेरी कौन थी ?
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो...
Manisha Manjari
Loading...