Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

कविता

1 $–कविता –$

मन के भाव ललित हो जाएं,
एक छंद बनती है कविता ।
किसी भाव के शूल गड़े तो,
नवल बंध गढ़ती है कविता ।।

भावो का अतिरेक उमड़ता,
पन्नो पर चित जाती कविता ।
बुद्धि भाव का मेल मिले तो,
नव भाषा लिख जाती कविता ।।

मिट्टी से जब खुशबू उठती,
सरस् फूट आती है कविता ।
सागर से लहरे जब खेले,
हँसती खिलती गाती कविता ।।

खेतो में जब जलना होता,
पिघल स्वेद बनती है कविता ।
पत्थर जब हाथो से टूटे,
सुलग भूख बनती है कविता ।।

जब मन की चटखन सुनती,
दबे पांव आती है कविता ।
जब जब होती भटकन में,
ठहर ठहर छूती है कविता ।।

सन्नाटों से बातें होती,
एकाकी रिसती है कविता ।
जब पांवो में छाले फूटे,
पीड़ा से रोती है कविता ।

सुशीला जोशी
9719260777

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
नये साल के नये हिसाब
नये साल के नये हिसाब
Preeti Sharma Aseem
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
पूर्वार्थ
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
Sukoon
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
gurudeenverma198
बाजार
बाजार
surenderpal vaidya
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
धूल-मिट्टी
धूल-मिट्टी
Lovi Mishra
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"चंदा मामा"
Dr. Kishan tandon kranti
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
🙅आज का टोटका🙅
🙅आज का टोटका🙅
*प्रणय प्रभात*
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
parvez khan
पिता का साया
पिता का साया
Neeraj Agarwal
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...