Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

कविता

उस दिन, मैं टेक लगाए बैठी थी
और वो, आकर मेरे पैरों से अपना चेहरा सटाकर लेट गया।
उसकी गर्म हथेलियों ने मेरे दोनों पंजों को नर्मी से छुआ
मेरे तलवों पर बारी बारी सटते रहे उसके होंठ।
उसके गालों ने मेरे तलवों से ठीक वैसा ही संवाद किया, जैसे करता है कोई माथा हथेली से।
मैं उसे देख रही थी, एकटक…।
उसे रोकना चाहा,
पर “थरथराते होंठ बागी औरत की तरह होते हैं,” सो “रुक जाओ”, नहीं सुना गया।
और अनजाने,‌अचानक आँखों से कुछ लुढ़का…,
हां! आँसू ही थे, पर क्यूँ ? ये बाद में सोचूँगी।
उसे देखा… जो‌‌ आँखें मूँदे अभी भी तलवों से अपने गालों को सुख दे रहा था
तब, उसका चेहरा यूँ लगा,
जैसे “अहम स्वयं बुद्ध के पैरों में गिरकर निर्वाण तलाश रहा हो।”
मन किया उसे उठाकर छाती में समेट लूँ,
मैं बुद्ध नहीं थी, वो अहम/पुरुष नहीं था।
मेरा हृदय मेरे तलवों से, खिसक गया
उसके होठों में, गालों में
सजल हो रही आँखों में।
उस पल लगा जैसे,
उन दो तलवों से सटी, मैं ही हूँ।
मैं ही मुस्कुरा रहीं हूँ।
मैं ही रो रही हूँ।
मेरे ही माथे में चिरशांति स्थापित हो रही है।
लगा, कि वो नहीं हैं।
है, तो बस
छुअन, चुम्बन, आँसू, आलिंगन, शांति, मोक्ष…।
बस!
शिवा अवस्थी

3 Likes · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
DrLakshman Jha Parimal
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
"कष्ट"
नेताम आर सी
खुद का साथ
खुद का साथ
Shakuntla Shaku
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
Rj Anand Prajapati
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कहीं साथी हमें पथ में
कहीं साथी हमें पथ में
surenderpal vaidya
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
परिवार होना चाहिए
परिवार होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहने को हर हाथ में,
कहने को हर हाथ में,
sushil sarna
■ भड़की हुई भावना■
■ भड़की हुई भावना■
*Author प्रणय प्रभात*
कोहरे के दिन
कोहरे के दिन
Ghanshyam Poddar
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
बसंत का मौसम
बसंत का मौसम
Awadhesh Kumar Singh
"दीप जले"
Shashi kala vyas
Loading...