Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2017 · 1 min read

कविता

मुद्दत बाद
*********

पहचाने हुए रास्ते
कितने बदल जाते हैं,
मुद्दत बाद चलो तो
फिर नए से लगते हैं ।

वक्त मिटा देता है
सारे पहचाने निशान,
मुद्दत बाद मिलो तो
बड़े अनजाने लगते हैं ।

बचपन में देखे सपने
कुछ दबे हुए जज्बात,
मुद्दत बाद कहो तो
बड़े फ़ानी से लगते हैं ।

आँखों में कैद आँसू
दिल में जमी बर्फ
मुद्दत बाद बहें तो
पुरसुकून से लगते हैं ।।

इला सिंह
*************

Language: Hindi
318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लफ़्ज़ों में हमनें
लफ़्ज़ों में हमनें
Dr fauzia Naseem shad
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
■ साहित्यपीडिया से सवाल
■ साहित्यपीडिया से सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
ज्योति
You're going to realize one day :
You're going to realize one day :
पूर्वार्थ
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
"वो"
Dr. Kishan tandon kranti
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
💐अज्ञात के प्रति-60💐
💐अज्ञात के प्रति-60💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
पत्नी
पत्नी
Acharya Rama Nand Mandal
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
Loading...