Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 1 min read

कविता

“मीत जिन्दगी”

गम उठाने के लिए हीं जिन्दगी होती है ।
कब सुख से भरपूर ये जिन्दगी होती है ।

जिसने दुख से नाता बना लिया उसकी ,
फूल सी मुस्कान भरी जिन्दगी होती है ।

जीवन से जो हारे बैठे रहतें हैं
निश्चय हारने के लिए जिन्दगी होती है ।

अपने अंदर भी कभी झाँक कर देखें तो
अपार शक्तियों से भरी जिन्दगी होती है ।

सुख दुख तो अपना हीं संसार होता है
आश मिटे नहीं यही जिन्दगी होती है ।

घुम रहा समय का पहिया रैन दिवस ये
तेज बहुत रफ्तार लिए जिन्दगी होती है

मन कभी न हारे जीवन से यदि प्यार है
छोटा न हो ये मन मीत जिन्दगी होती है ।

प्रमिला श्री

Language: Hindi
2 Likes · 368 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
सिर की सफेदी
सिर की सफेदी
Khajan Singh Nain
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
सिकन्दर बनकर क्या करना
सिकन्दर बनकर क्या करना
Satish Srijan
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*अंतर्मन में राम जी, रहिए सदा विराज (कुंडलिया)*
*अंतर्मन में राम जी, रहिए सदा विराज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
#ॐ_नमः_शिवाय
#ॐ_नमः_शिवाय
*Author प्रणय प्रभात*
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
" यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
कवि दीपक बवेजा
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
कलम वो तलवार है ,
कलम वो तलवार है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
दीपावली
दीपावली
Neeraj Agarwal
गोरी का झुमका
गोरी का झुमका
Surinder blackpen
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
Loading...