Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 1 min read

कविता

वो मेरा गाँव
************
जो छोड़ आई थी अपनी ठाँव
वो गली मुहल्ले ,अपना गाँव
क्या अब भी वैसा ही होगा
सुबह का सूरज शाम की छाँव ।

छत पर गौरया आकर के
क्या अब भी बैठा करती है
क्या अब भी बूढ़ी होकर माँ
दाना छत पे डाला करती है ।

बच्चे क्या खेला करते हैं
वो खेल मेरे बचपन वाले
इकटंग्गी, खो-खो ,पोशम्पा
या छुपम-छुपाई, दे धप्पा ।

क्या बाग अभी भी वो होगा
जहाँ सावन में झूली थी
कजरी विरहा के गीत खूब
सखियों संग में गाती थी ।

क्या कोयल कूकती अब भी
और बच्चे नकल बनाते हैं
मोरों संग नाच-नाच क्या वो
सावन में यूँही …नहाते हैं ।

जो छोड़ आई रिश्ते-नाते
जैसे तोड़ आई नेह के धागे
क्या हूँ अब भी मन में उनके
या बिसर गई नए नातों में ।

वो नहर किनारे बसा हुआ
छोटे से शहर से लगा हुआ
क्या अब भी वैसा ही होगा
या बदल गया अब मेरा गाँव ।

इला सिंह
************
07839040416

Language: Hindi
530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
*जलयान (बाल कविता)*
*जलयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
"बुद्धिमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
चलो चलें दूर गगन की ओर
चलो चलें दूर गगन की ओर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बगैर पैमाने के
बगैर पैमाने के
Satish Srijan
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
सफर में महोब्बत
सफर में महोब्बत
Anil chobisa
Loading...