Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

कविता

मेरी जिन्दगी में प्रभु आप आओ।
/////////////////////////////////////
मेरी जिन्दगी में प्रभु आप आओ।
नही चाहिए कुछ जरा मुस्कुराओ।

तुम्ही जिन्दगी हो तुम्ही वन्दगी हो,
तुम्हारी हुई तुम्ही रिस्ता निभाओ।

बिना अब तुम्हारे नही रहना चाहूं,
हुई बावरी अब गले से लगाओ।

कन्हैया इसी जन्ममें तुमको पाना,
यही आरजू है नही, आजमाओ।

नही बनके राधा तड़पना मुझे है,
मुझे साथ रहना प्रभु मानजाओ।

‘सुनीता’को सुनना किसी न आती,
प्रभु बाँसुरी की मधुर ध्वनि सुनाओ।

सुनीता गुप्ता कानपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
#सामयिक_आलेख
#सामयिक_आलेख
*प्रणय प्रभात*
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
2360.पूर्णिका
2360.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
Shweta Soni
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
*मृत्यु : चौदह दोहे*
*मृत्यु : चौदह दोहे*
Ravi Prakash
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
ईश्वर के प्रतिरूप
ईश्वर के प्रतिरूप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
देश गान
देश गान
Prakash Chandra
हमारी वफा
हमारी वफा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...