Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

कविता : 15 अगस्त

राम कृष्ण की धरती है ये,
धरती पर है स्वर्ग यहाँ
लहराते खेतों की हरियाली ,
है हरा भरा परिधान यहाँ
बातों में गीतों के सरगम ,
हर राग का सुमधुर साज यहाँ
हर धर्म यहाँ ,हर रीति जाति का
हर बोली का सम्मान यहाँ ,
मधुवन उपवन के कुंजो जैसी ,
बहे शांति रसधार यहाँ
दसों दिशाओं में गूंजे ,
भारत मां का स्वर गान यहाँ
‘प्रभात ‘ आजादी के अमृत का महा उत्सव ,
हम सबको साथ मनाना है
आन बान और शान तिरंगा,
मिलकरके फहराना है
वीरों ने बलिदान दिया ,
अपना लहू बहाया है
भारत माता की रक्षा के लिए ,
अपना शीश कटाया है
वीरों का बलिदान अमर करने की ,
अब अपनी बारी आई है
धरती से अम्बर तक नभ में
प्यारी लाली छायी है
हो कहीं न अब खून की होली
दीवाली के दीप जलें
आओ अथक प्रयासों से
इस देश की नीव भरें | |

Language: Hindi
639 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
मां
मां
Monika Verma
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
जाते निर्धन भी धनी, जग से साहूकार (कुंडलियां)
Ravi Prakash
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
DrLakshman Jha Parimal
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Rainbow (indradhanush)
Rainbow (indradhanush)
Nupur Pathak
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
रोटियां जिनका ख़्वाब होती हैं
Dr fauzia Naseem shad
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
पारख पूर्ण प्रणेता
पारख पूर्ण प्रणेता
प्रेमदास वसु सुरेखा
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस अणु भर मैं
बस अणु भर मैं
Atul "Krishn"
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
Loading...