Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

कविता – नदी का वजूद

पड़ी हुई थी शांत
नही था मेरा वजूद कुछ
विशाल पर्वत के किसी कोने से गुजरते हुए
जहाँ मुझे रास्ता मिलता गया
मैं बढ़ती गई।
कभी हिमालय की गोद से
तो कहीँ विंध्य की गोद
तो कहीं अरावली की चोटी से
तो कभी सतपुडा की चोटी से।
मैं न जाने किन – किन ऊबड़ खाबड़ पर्वतों से
पठारों, पथरीले रास्तों से अपना मार्ग कब से ढूंढ रही हूँ।
मेरा वजूद मुझे तलाश करता हुआ जा पहुँचता है जमीन में
वहाँ मैं विभिन्न नामो से पुकारी जाती हूँ।
कोई गंगा कोई यमुना ,घाघरा, बेतवा ,कोसी,ब्रह्मपुत्र, कहता है,
मैं जीवन दायनी बन जाती हूँ तो कभी मैं विकराल हो जाती हूँ।
लोग मुझे पीकर तृप्त होते हैं,
मैं इंसानों की हमेशा मदद करती हूँ।
जिसको जैसी जरूरत होती है वो मुझसे ले कर जाता है,
मैंने कभी किसी से कुछ भी नही मांगा।
आज मैं बहुत दुःखी हूँ क्यों कि,
कभी मेरे साथ ऐसा नही हुआ जैसा अब मेरे साथ हो रहा है।
लोगों में मेरे वजूद को
खत्म करने की होड़ लगी है।
आँचल मैला करना प्रारम्भ कर दिया है।
लोगो की भूख दिन ब दिन बढ़ती जा रही है और मुझे सताने लगे हैं।
मुझे रोक दिया है बढ़ने से,
प्रदूषण में भला कौन जीता है?
यकीनन,
मैं भी मर जाऊँगी,
और नष्ट हो जायेगा मेरा वजूद ।
क्या, मेरे वजूद के खत्म होने पर
इंसानी वजूद बना रहेगा?

1 Like · 322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Akib Javed
View all
You may also like:
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
*प्यासी धरती को मिला, वर्षा का उपहार (कुंडलिया)*
*प्यासी धरती को मिला, वर्षा का उपहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
लोकतंत्र के प्रहरी
लोकतंत्र के प्रहरी
Dr Mukesh 'Aseemit'
कहीं पे पहुँचने के लिए,
कहीं पे पहुँचने के लिए,
शेखर सिंह
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"तासीर"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कुछ पाने के लिए कुछ ना कुछ खोना पड़ता है,
कुछ पाने के लिए कुछ ना कुछ खोना पड़ता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
टैडी बीयर
टैडी बीयर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
Loading...