Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

कविता : आँसू

2
$–कविता : आँसू –$

मन के भाव ललित हो जाएं,
एक छंद बनती है कविता ।
किसी भाव के शूल गड़े तो,
नवल बंध गढ़ती है कविता ।।

भावो का अतिरेक उमड़ता,
पन्नो पर चित जाती कविता ।
बुद्धि भाव का मेल मिले तो,
नव भाषा लिख जाती कविता ।।

मिट्टी से जब खुशबू उठती,
सरस् फूट आती है कविता ।
सागर से लहरे जब खेले,
हँसती खिलती गाती कविता ।।

खेतो में जब जलना होता,
पिघल स्वेद बनती है कविता ।
पत्थर जब हाथो से टूटे,
सुलग भूख बनती है कविता ।।

जब मन की चटखन सुनती,
दबे पांव आती है कविता ।
जब जब होती भटकन में,
ठहर ठहर छूती है कविता ।।

सन्नाटों से बातें होती,
एकाकी रिसती है कविता ।
जब पांवो में छाले फूटे,
पीड़ा से रोती है कविता ।।

Language: Hindi
36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
Sadhavi Sonarkar
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
बहुत दाम हो गए
बहुत दाम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"वाकया"
Dr. Kishan tandon kranti
#शारदीय_नवरात्रि
#शारदीय_नवरात्रि
*प्रणय प्रभात*
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
Loading...