Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2018 · 1 min read

कल रात

कल रातभर चराग जलता ही रहा ,वक्त भी धीरे-धीरे सरकता ही रहा।
तसवीर तेरी हाथ मेंं लिए मैंं बैठा ही रहा,देखकर दिल मेरा थोडा-थोडा दरकता ही रहा कल रात भर…
होश भी बेहोशी को देखता ही रहा,चाँँद सूरज का इंंतजार करता ही रहा कल रात भर …..
इश्क तेरे वजूद को तलब करता ही रहा,अरमांं तेरी याद मैंं करवटेंं बदलता ही रहा कल रात भर ….
बंंदगी खुदा की कम तेरी मैंं करता ही रहा,दुआँँओंं मेंं भी मै तेरा ही नाम लेता रहा कल रात भर …..
जमाना मेरी दिवानगी पर हँँसता ही रहा,जलते हुए अपना मकांं मैंं देखता ही रहा कल रात भर…….
शंंहशाहो की भीड़ मेंं मैंं हमेशा चलता ही रहा,पर दिल तो फकीरी मेंं मेरा बसता ही रहा कल रात भर …..
मौत का इंंतजार हर पल मैंं करता ही रहा,जिंंदगी तुझसे बस शिकवा ही मैंं करता रहा कल रात भर…….
इम्तिहान वक्त क्योंं हमेशा मेरा लेता ही रहा,खामोशी से उसको मैंं भी तो बस सहता ही रहा कल रात भर…….
अपनोंं को छोड़ गैरोंं मेंं मैंं खुद को ढुँँढता ही रहा,ये सिलसिला सदियोंं तलक चलता ही रहा कल रात भर…..
आँँसुओंं का सैलाब इस कदर बहता ही रहा,दामन अपना ही मैंं तो भिगोता ही रहा कल रात भर ……
खाव्बोंं पर सख्तियोंं के पहरे मैंं लगाता ही रहा,तनहाईयोंं को मैंं अपनी पर्दो मेंं छिपाता ही रहा कल रात भर ……

#सरितासृृजना

278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
Dr Archana Gupta
बुंदेली चौकड़िया-पानी
बुंदेली चौकड़िया-पानी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शख्सियत ही कुछ ऐसी है,
शख्सियत ही कुछ ऐसी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
जो
जो "समाधान" के योग्य नहीं, वो स्वयं समस्या है। उसे "समस्या"
*प्रणय प्रभात*
306.*पूर्णिका*
306.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
Dhirendra Singh
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
Lokesh Sharma
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
Loading...