Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2018 · 1 min read

कल और आज

कल और आज (भोजपुरी कविता)
????????
एगो वानर दूगो वानर , देखनी वानर तीन।
विचारधारा में गांधी जी के,रहलन तीनों लीन।।
रहलन तीनों लीन , बुराई बुरा बतावें।
देखीं सुनीं ना बोलीं , हरदम इहै जतावें।।

धीरे – धीरे परिवर्तित , भईल समय के धार।
तीन से बढ़के आज होगइलें, देखीं वानर चार।।
देखीं वानर चार , ऊ सबके मुंह चिढावे।
बढल प्रभाव मोबाइल , सबका आज दिखावे।।

खतम भइल ना आज बुराई, बढल ओकर प्रभाव।
साँच झूठ के खेल चलत बा, साँच के बा आभाव।।
साँच के बा आभाव , बुराई बढले. जाता।
बुरा करे जे आज , महलो ओकरे पीटाता।।
********
✍✍पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"कइयों को जिसकी शक़्ल में,
*प्रणय प्रभात*
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
DrLakshman Jha Parimal
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
चलो हम सब मतदान करें
चलो हम सब मतदान करें
Sonam Puneet Dubey
नदी की करुण पुकार
नदी की करुण पुकार
Anil Kumar Mishra
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
शीशे की उमर ना पूछ,
शीशे की उमर ना पूछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"शुभचिन्तक"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
चश्मा साफ़ करते हुए उस बुज़ुर्ग ने अपनी पत्नी से कहा :- हमार
चश्मा साफ़ करते हुए उस बुज़ुर्ग ने अपनी पत्नी से कहा :- हमार
Rituraj shivem verma
*चलती रहती ट्रेन है, चढ़ते रहते लोग (कुंडलिया)*
*चलती रहती ट्रेन है, चढ़ते रहते लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
होली पर बस एक गिला।
होली पर बस एक गिला।
सत्य कुमार प्रेमी
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
पिता
पिता
Raju Gajbhiye
गरिमा
गरिमा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...